अनमोल पूत

आज मैं शत् शत् नमन करता हूँ
भारत माता के अलबेले अनमोल पूत को
जिसने पूरे विश्व में नाम कमाया था
आज मैं शत् शत् नमन करता हूँ
उसे जो भारत के लिए संविधान ले के आया था

परेशानी , दुःख और गरीबी में जो जन्मा था
वही भारत माता का स्वाभिमान ले के आया था
आज मैं शत् शत् नमन करता हूँ
भारत माता के अलबेले अनमोल पूत को
जो भारत के लिए संविधान ले के आया था

जिसने जीवन भर शिक्षित बनो , संगठित रहो ,
संघर्ष करो का सन्देश फैलाया था
जिसने दलित भाई, पुस्तकों और
भारत देश पर असीम प्रेम लुटाया था
जो भारत की खोई आन -बान ले के आया था
आज मैं शत् शत् नमन करता हूँ
भारत माता के अलबेले अनमोल पूत को
जो भारत के लिए संविधान ले के आया था

कर्तव्य परायणता , ईमानदारी , मेहनत, लगन और अथाह ज्ञान का सागर
जिसने पूरे विश्व में अपने ज्ञान का लोहा मनवाया था
आज मैं शत् शत् नमन करता हूँ
भारत माता के अलबेले अनमोल पूत को
जो भारत के लिए संविधान ले के आया था

दलितों और अस्पर्शयों के
राजनीतिक, सामाजिक , धार्मिक अधिकारों के लिए
संघर्ष करते-करते जिसने अपना सारा जीवन बिताया था
जो लोकतन्त्र वाला यश-गान ले के आया था
आज मैं शत् शत् नमन करता हूँ
भारत माता के अलबेले अनमोल पूत को
जो भारत के लिए संविधान ले के आया था

सारी मानव जाती के अस्तित्व के संघर्ष के लिए समर्पित
राजनेता , उत्कृष्ट समाज सेवी, चिन्तक, तेजस्वी वक्ता
कानून विशेषज्ञ, विख्यात अर्थशास्त्री और इन सब से
बढ़कर एक प्रखर राष्ट्रभक्त
भारत रत्न ,
जो बाबा साहिब कहलाया था
आज मैं शत् शत् नमन करता हूँ
भारत माता के अलबेले अनमोल पूत
बाबा साहब डॉ. भीमराव अम्बेडकर को
जो भारत के लिए संविधान ले के आया था

{संजय कुमार फरवाहा }

व्‍यस्‍तता



कविता:
व्‍यस्‍तता

आज हम हर पल व्‍यस्‍तता का बहाना बना रहे हैं

व्‍यस्‍तता की आड़ लेकर अपनों से ही बहुत दूर हुऐ जा रहे हैं

जरा सोचिए,

दिल से सोचिए

कहीं हम रिश्तों के नाम पर औपचारिकता तो नहीं निभा रहे हैं

आज हम हर पल व्‍यस्‍तता का बहाना बना रहे हैं

पहले जब कोई दुःख में होता था

हमारा प्यारा

हम दुःख बंटने पहुँच जाते थे

बन के उस का सहारा

सच्चे मन से उस के काम आते थे

दिल से रिश्ते नाते निभाते थे

अब तो अपनों के मरने पर भी हम

व्‍यस्‍तता का बहाना बना रहे हैं

दस मिनट बैठ कर

दुःख बंटाने की नौटंकी किए जा रहे हैं

जरा सोचिए ,

दिल से सोचिए

कहीं हम रिश्तों के नाम पर ओपचारिकता तो नहीं निभा रहे हैं

पहले हम शादी विवाह में जाते थे

नाचते थे गाते थे

दूल्हा दुल्हन के साथ रस्में निभाते थे

अब हम व्यस्त्त्ता का बहाना बना रहे हैं

सब रस्मों को छोड खाने के समय पर जाने

और खाना खाने की एक मात्र रसम निभा रहें हें

थमा हाथ में शगुन का लिफाफा

बहुत-बहुत बधाई हो कह कर

मुस्कुराते हुऐ वापिस चले आ रहें हैं

जरा सोचिए ,

दिल से सोचिए

कहीं हम रिश्तों के नाम पर ओपचारिकता तो नहीं निभा रहे हैं

पहले हम रिश्तेदारों को पत्र लिखते थे

हर एक एक शब्दों को पढ़ कर

पत्र भेजने वालों के चेहरे दिखते थे

मन भर आता था

सिसकियों के साथ साथ आंसूं भी टपक जाते थे

अब तो हम तो हम

दो शब्दों के ईमेल या s.m. s. से ही रिश्तों को निभाने का काम चला रहें हैं

छोड की प्रेम की रीत

भावनाओं की खिली उड़ा रहें है

जरा सोचिए ,

दिल से सोचिए

कहीं हम रिश्तों के नाम पर ओपचारिकता तो नहीं निभा रहे हैं

( संजय कुमार फरवाहा )